आईसीसी, विश्व क्रिकेट परिषद, विश्व कप, विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप, और चैम्पियंस ट्रॉफी जैसे महत्वपूर्ण घटनाओं का आयोजन करने वाला विश्व स्तरीय क्रिकेट प्रबंधन निकाय है।

इस निर्देशादी निकाय में, अपने नियमों का पालन करना अनिवार्य है। दायित्व उल्लंघन पर सदस्यता निलंबित और प्रतिबंध लगाने का अधिकार सुरक्षित है।

ICC ने हाल की घटना में श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड को निलंबित किया जो देश की सरकार द्वारा बोर्ड के अधिग्रहण के कारण हुआ।यह अकेला उदाहरण नहीं है कि ICC ने ऐसा किया है।

#1 संसद द्वारा भ्रष्ट प्रबंधन हटाने का प्रस्ताव पारित आया।आईसीसी ने श्रीलंका क्रिकेट को एक रिपोर्ट में भ्रष्ट गतिविधियों का खुलासा होने के बाद निलंबित किया।

#2 रूस, 2021 की ICC आम बैठक के बाद नोटिस मिला, मुद्दों को हल करने में क्रिकेट रूस की विफलता पर, बोर्ड ने 26 जुलाई, 2022 को उनकी सदस्यता समाप्त कर दी।

#3 जाम्बिया 2014में पहली बार ICC से चेतावनी प्राप्त करता है क्योंकि उनका बोर्ड आर्थिक कानूनों का पालन नहीं कर रहा था।2019 में उनको निलंबित किया और 2साल बाद सदस्यता समाप्त हुई।

#4 जिम्बाब्वे आईसीसी के पहले टेस्ट निलंबन ग्रहण करने वाला देश बन गया।2019 में ZCको लोकतांत्रिक चुनाव और क्रिकेट प्रबंधन में असफलता के कारण निलंबित किया गया।

तीन महीने बाद आईसीसी ने ZCके शीर्ष अधिकारियों और देश की सरकार के साथ बैठक के बाद प्रतिबंध हटा दिया था।

#5 ब्रुनेई 23 वर्षों तक आईसीसी का सदस्य रहा, परंतु 2014 में निलंबित हो गया था क्योंकि उन्होंने बोर्ड के कानूनों को पूरा नहीं किया।

#6 टोंगा 2000 में ICCमें सदस्य बनाकर कई आयोजनों में भाग लिया और इंडोनेशिया और कुक आइलैंड्स के खिलाफ जीत भी दर्ज की।2013 में निलंबित हुआ, एक साल बाद सदस्यता समाप्त हुई।

#7 मोरक्को, 2002 में ICC में शामिल हुआ, लेकिन 2014 में कानूनों का पालन न करने के आरोप में निलंबित हो गया और 2019 तक उसकी सदस्यता रद्द हो गई।

#8 क्यूबा आईसीसी का सदस्य था लेकिन 2013 में उनकी निलंबन की गई। क्योंकि उन्होंने बोर्ड के दिशानिर्देशों का पूरा नहीं किया। सीसीसी ने अभी तक वापसी नहीं की है।